जानिये राम मंदिर निर्माण के मुद्दे पर बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने क्या बड़ा बयान दिया ?

Published by Sam on

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने बुधवार को कहा कि पार्टी अयोध्या में राम मंदिर बनाने को लेकर कटिबद्ध है और वह अपने इस संकल्प से जरा भी पीछे नहीं हटेगी। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि देश को गठबंधन के नेतृत्व वाली ‘मजबूर’ सरकार नहीं, बल्कि मोदी के नेतृत्व वाली ‘मजबूत’ सरकार की जरूरत है। शाह जयपुर के एक निजी स्कूल में प्रदेश के सात संभागों के युवाओं के साथ संवाद कार्यक्रम ‘युवां री बात अमित शाह के साथ’ को संबोधित कर रहे थे। 

इस दौरान अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर पार्टी की प्रतिबद्धता के सवाल पर शाह ने कहा, ‘अयोध्या में जहां रामलला विराजमान हैं, उसी स्थान पर भव्य राम मंदिर बने, इसके लिए भारतीय जनता पार्टी कटिबद्ध है और यह हमारा देश से वादा है। इसमें एक इंच भी पीछे हटने का कोई सवाल नहीं है।’ शाह के अनुसार बीजेपी ने अपने घोषणापत्र में कहा है कि वह इस मुद्दे का न्यायिक समाधान चाहती है और वहां पर जल्द से जल्द राम मंदिर बनाना चाहती है। 

बीजेपी अध्यक्ष ने कहा, ‘जनवरी में अदालत में तारीख है और हमें पूरी आशा है कि राम जन्मभूमि मामले पर तेजी से सुनवाई होगी तथा फैसले के बाद वहां भव्य राम मंदिर का निर्माण होगा। परंतु बीजेपी अपने वचन से एक इंच भी पीछे नहीं जा सकती। उसी स्थान पर और डिजाइन के हिसाब से ही भव्य राम मंदिर का निर्माण करना यह भारतीय जनता पार्टी का संकल्प है, जिसे लेकर हमारे मन में कोई संशय नहीं है।’ 

केंद्र में ‘मजबूत’ नहीं ‘मजबूर’ सरकार संबंधी बीएसपी नेता मायावती के बयान का जिक्र करते हुए शाह ने कहा, ‘हम चाहते हैं कि मोदी के नेतृत्व में, वसुंधरा राजे के नेतृत्व में एक मजबूत सरकार बने जो राजस्थान और देश के विकास के लिए आगे बढ़ सके।’ उन्होंने कहा, ‘यह जो गठबंधन, गठबंधन, गठबंधन करते हैं… अभी मायावती ने कहा कि देश में ‘मजबूत’ सरकार नहीं चाहिए ‘मजबूर’ सरकार चाहिए। उन्हें ‘मजबूर’ चाहिए, हमें ‘मजबूत’ सरकार चाहिए जो देश में विकास कर सके… राहुल गांधी के नेतृत्व में गठबंधन ‘मजबूर’ सरकार चाहता है और जो सरकार ‘मजबूर’ हो, वह कैसे देश का विकास कर सकती है?’’ 

बीकानेर में कांग्रेस के एक प्रत्याशी द्वारा ‘भारत माता की जय’ के नारों के बीच सोनिया गांधी की ‘जय’ के नारे लगवाए जाने की कथित घटना का जिक्र करते हुए शाह ने कहा, ‘वंशवाद की राजनीति का इससे ज्यादा खराब परिणाम और क्या हो सकता है?’ उन्होंने कहा कि जिन लोगों को ‘भारत माता की जय’ बोलने में हिचकिचाहट होती है, उनको इस धरती का अन्न खाने का कोई अधिकार नहीं है। बीजेपी ने वंशवादी राजनीतिक परंपराओं को देश से समाप्त किया है और देश की राजनीति में जब तक वंशवाद है, उसमें प्रतिभाशाली युवाओं को मौका मिल नहीं सकता है।

Source: NBT

Categories: News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *